Crime News:-जंगल में मिली दो नौजवानों की लाशें, टनल में फसे बेटे की आश में पिता की गई जान

Crime News:-जंगल में मिली दो नौजवानों की लाशें, सनसनी मची

झारखण्ड के खूंटी जिले के जंगल से दो युवको के शव मिलने से पुरे जिले में सनसनी फैली हुवी है जंगल से निकली दो लाशें, एक महीने से लापता युवकों की बताई जा रही है,पहले रहस्यमय तरीके से गायब होना, फिर उनका शव जंगल से मिलना सभी को हैरान कर रहा है ।

युवकों का गायब होना रहस्यमय

झारखंड के खूंटी जिले में मुरहू थाना क्षेत्र में दोनों युवको की हत्या कर इनके शवों की जंगल में दफ़नाने की बात कही जा रही है बताया जा रहा है दोनों 29 अक्टूबर से लापता था , मरने वाले दोनों युवको के नाम क्रमशा सिंहभूम जिले के बंदगांव के कुलडा गांव निवासी 22 वर्षीय सिबियन हपदगड़ा और मुरहू की रुमुदकेल पंचायत के करका गांव निवासी 26 वर्षीय पंडा बोदरा के रूप में की गई है ये दोनों लाशें उस समय मिलीं जब इन दोनों नौजवानों की तलाश गांववालों ने शुरू की थी।

ALSO READ:-“इजरायली कब्जे से मुक्त,Chilling Videos में हमास का दिलचस्प खुलासा”

गुमशुदगी की रिपोर्ट और जाँच जारी

ये दोनों मित्र थे और उनकी गुमशुदगी की रिपोर्ट महिने पहले ही थाने में दर्ज कराई गई थी। गांववाले और पुलिस ने इनकी तलाश कर रहे थे, लेकिन उपयुक्त सुराग नहीं मिले। इसके बाद, सोमवार को, गांव के निवासियों ने जंगल के नीचे दफन दोनों शवों को खोजने में सफलता प्राप्त की।इसके बाद मामले की सूचना पुलिस को दी गई। मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में पुलिस ने ग्रामीणों के सहयोग से दोनों शवों को खाई से बाहर निकाला। पुलिस ने इस सिलसिले में तीन लोगों को हिरासत में लिया है। उनसे पूछताछ की जा रही है। हत्या के कारणों का फिलहाल खुलासा नहीं हो पाया है।

उत्तरकाशी टनल में फसे बेटे की आश में पिता की चली गई जान

उत्तरकाशी टनल में फंसे गए 41 मजदूरों में से एक झारखण्ड के भक्तु मुर्मू भी थे, एक तरफ जहा देश मजदूरों के टनल से बहार निकलने की ख़ुशी मना रहे थे वही एक ऐसा भी परिवार था जो ख़ुशी के जगह संतोष कर रहा था,एक तरफ बेटा टनल से बहार निकला वही दूसरी तरफ पिता की चली गई जान, ने अपने पिता की मौत का सामना करते हुए जीवन की मुश्किल यात्रा पूरी की। 12 नवंबर को शुरू हुई यह आत्मकथा में उनके परिवार की कठिनाईयों का वर्णन है। पिता, बारसा मुर्मू, जो उनके बाहर आने का इंतजार कर रहे थे, ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया।

टनल में फंसाव: भक्तू का संघर्ष

इस घटना के पीछे का कारण था उत्तरकाशी टनल में फंसे जाने वाले 41 मजदूरों का अजीबो-गरीब कारण। भक्तू मुर्मू, जो भी इनमें से एक थे, के पिता का दिल दुखाने वाली मौत ने इस परिवार को किसी भी राह में स्वतंत्रता प्राप्त करने में मुश्किलें डाल दीं।इस सबके बावजूद, इन 41 मजदूरों को 17 दिनों तक टनल में फंसे रहना पड़ा, जिसमें उन्हें जीवन की सबसे कठिन चुनौतियों का सामना करना पड़ा।भक्तू के पिता की मौत ने परिवार को एक और कठिनाई का सामना करना पड़ा। उनके साथी और परिवारवालों ने बताया कि इस समय प्रशासनिक पदाधिकारियों की भी कमी थी, जिससे उन्हें सहारा नहीं मिला।

आखिरकार बाहर आए 41 मजदूर

इस दुखद सच्चाई के बावजूद, 28 नवंबर को ये 41 मजदूर सकुशल टनल से बाहर निकले, लेकिन इसकी ख़ुशी सब के लिए समान नहीं बन पाई ,इस घटना से सभी ग्रामीण वासी खुश तो है की उनका बेटा सकुशल वापस आ गया लेकिन साथ ही अपने बड़े बुजुर्ग के खोने का गम भी है ,साथ ही इस घटना के बाद से प्रशाशन की तरफ से कोई खोज खबर लेने नहीं आया ,हो सकता है अगर प्रशाशन की तरफ कोई अधिकारी आके बरसा मुर्मू को दिलासा देता की आपका बेटा सकुशल वापस आ जायेगा तो शायद ये मंजर कुछ और होता लेकिन इसके लिए एक मौत तक का सामना करना पड़ा।

2 thoughts on “Crime News:-जंगल में मिली दो नौजवानों की लाशें, टनल में फसे बेटे की आश में पिता की गई जान”

Leave a Reply