Ranchi News:धनतेरस में झारखंड में 3500 करोड़ का कारोबार

Ranchi News:धनतेरस में झारखंड में 3500 करोड़ का कारोबार

धनतेरस के मौके पर झारखंड में लोगों ने रातों रात खरीदारी की गई। इस विशेष दिन अलग-अलग सेक्टर्स में लोगों की उत्सुकता देखने को मिली, जैसे कि जमीन-फ्लैट से लेकर गाड़ियों और हीरे-सोने के गहने।झारखंड के धनतेरस की शुभ रात्रि में, भगवान कुबेर का आशीर्वाद लगभग 3,500 करोड़ के बिजनेस टर्नओवर को हुआ है।

रियल एस्टेट में बड़ा उत्साह: 38% बढ़ोतरी

इस बार धनतेरस पर रियल एस्टेट क्षेत्र में बड़ी बातें हुईं। पिछले वर्ष की तुलना में इस सेक्टर में 38% बढ़ोतरी दर्ज की गई है। रांची में पांच रजिस्ट्री कार्यालयों ने मिलकर 163 दस्तावेज़ों की रजिस्ट्री की, जिसमें 21 फ्लैट शामिल हैं।धनतेरस के मौके पर राज्य भर में रियल एस्टेट कारोबार की चर्चा करते हुए शुक्रवार को 657 रजिस्ट्री हुई, जो पिछले वर्ष के 452 के मुकाबले बड़ा है।

रांची में सरकार को 5 करोड़ रुपये का राजस्व

राज्य भर में धनतेरस के मौके पर जमीन, घर और फ्लैट की रजिस्ट्री से सरकार को पांच करोड़ रुपये का राजस्व प्राप्त हुआ, जबकि रांची में सिर्फ रजिस्ट्री से तीन करोड़ रुपये का राजस्व मिला।पिछले वर्ष का आंकड़ा 452 था। रांची ने प्रमुख योगदान दिया और सरकार को संपत्ति पंजीकरण से लगभग पाँच करोड़ रुपये का राजस्व प्रदान किया, जबकि रांची ने केवल तीन करोड़ रुपये का राजस्व दिया। रोचक है कि झारखंड के कुछ जिलों में धनतेरस के दिन भी एक भी पंजीकरण नहीं हुआ, जैसे कि रामगढ़, गोड्डा, लोहरदगा, पाकुड़ और साहिबगंज।

ALSO READ:-झारखंड में भ्रष्टाचार: ‘लूटखंड’ की कहानी

राजधानी में धनतेरस का बाजार: शानदार रहा

राजधानी रांची में धनतेरस के दिन बाजार जर्बदस्त रहा। सर्राफा बाजार और ऑटोमोबाइल बाजार भी शानदार रहे। खूबसूरत लाइट वेट ज्वेलरी, सुंदर गहने और डायमंड के गहने अच्छे बिके।इस धनतेरस पर राज्यभर में लगभग 3,500 करोड़ रुपए का व्यापार हुआ, जिसमें राजधानी में ही 2,000 करोड़ का व्यापार था। रांची में 1,500 करोड़ का सीधा व्यापार हुआ, जबकि 500 करोड़ का व्यापार ऑनलाइन किया गया।

राज्यभर में कारोबार: 3500 करोड़ रुपए का हुआ

झारखंड चैंबर के अध्यक्ष किशोर मंत्री के अनुसार, राज्य भर में धनतेरस पर कुछ लोगों ने करीब 3500 करोड़ रुपए का कारोबार किया है, जिसमें सिर्फ राजधानी में ही 2000 करोड़ का कारोबार हुआ है।चेंबर के अनुसार, धनबाद में कुल 400 करोड़, जमशेदपुर में 450 करोड़, देवघर में 350 करोड़ और बोकारो में 300 करोड़ का व्यापार हुआ है।

सेक्टरवार कारोबार: ऑटोमोबाइल, गहने, रियल एस्टेट, और इलेक्ट्रॉनिक्स

  • 7.1 ऑटोमोबाइल सेक्टर: 1000 करोड़ का कारोबार
  • 7.2 गहने और आभूषण सेक्टर: 700 करोड़ का कारोबार
  • 7.3 रियल एस्टेट: 500 करोड़ रुपए का कारोबार
  • 7.4 इलेक्ट्रॉनिक्स: 300 करोड़ रुपए का कारोबार

राज्यभर में धनतेरस की चमक: बूमिंग सेक्टर्स

धनतेरस के दिन राजधानी राज्य भर में ऑटोमोबाइल सेक्टर में सबसे ज्यादा बूम देखा गया, जिसमें सिर्फ इसी सेक्टर में 1000 करोड़ से ज्यादा का कारोबार हुआ है। राज्य भर महिलाओं ने धनतेरस के मौके पर जमकर गहनों की खरीदारी की। इस शुभ दिन फ्लैट और संपत्ति की खरीद-बिक्री भी जमकर हुई।यह धनतेरस ने केवल वित्तीय समृद्धि लाई ही नहीं, बल्कि इसने विभिन्न क्षेत्रों में विविध आर्थिक जीवंतता को भी हाइलाइट किया, इसे झारखंड वाणिज्य के इतिहास में यादगार बना दिया।

धनतेरस के बाद: 5 अनूठे सवाल

क्या ऑटोमोबाइल सेक्टर में इस धनतेरस पर सबसे ज्यादा बिक्री हुई?

कौन-कौन से जिलों में रजिस्ट्री कम हुई?

रियल एस्टेट क्षेत्र में कौन से परियोजना चर्चा में रहे?

किस सेक्टर में धनतेरस के मौके पर सबसे कम बिक्री हुई?

ऑनलाइन बिक्री किस सेक्टर में सबसे अच्छी रही?

Leave a Reply