Fire Incident:-महाकाल मंदिर के गर्भगृह में आग लगने से 13 पुजारी घायल

Fire Incident:-महाकाल मंदिर के गर्भगृह में आग लगने से 13 पुजारी घायल

हाल ही में एक दुखद घटना ने उज्जैन के महाकाल मंदिर के पवित्र मैदान को प्रभावित किया है, जिसमें श्रद्धेय ‘भस्म आरती’ समारोह के दौरान आग लगने से 13 पुजारी घायल हो गए। यहां इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना के बाद की घटनाओं और प्रतिक्रियाओं पर करीब से नजर डाली गई है।

घटना का विवरण:

सोमवार सुबह, उज्जैन में महाकाल मंदिर के गर्भगृह में आग लग गई, जिससे 13 पुजारी घायल हो गए। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि आग होली समारोह के दौरान ‘गुलाल’ फेंकने से लगी थी, जो अनजाने में मिट्टी के दीपक पर गिर गया, संभवतः रंगीन पाउडर के भीतर रसायनों के कारण आग लग गई।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घटना पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए घायल श्रद्धालुओं के शीघ्र स्वस्थ होने की आवश्यकता पर बल दिया है. उन्होंने पीड़ितों को सहायता प्रदान करने में तत्काल प्रतिक्रिया के लिए राज्य सरकार और स्थानीय अधिकारियों की सराहना की।

यह भी पढ़े:-Sita Soren :-हेमंत सोरेन के गढ़ को चुनौती देने उनकी भाभी सीता सोरेन मैदान में

आधिकारिक वक्तव्य:

उज्जैन कलेक्टर नीरज कुमार सिंह ने घटना की पुष्टि की और कारण का पता लगाने और भविष्य में होने वाली दुर्घटनाओं को रोकने के लिए घटना की मजिस्ट्रेट जांच की घोषणा की। इस बीच, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री मोहन यादव ने आश्वासन दिया कि स्थिति को प्रभावी ढंग से प्रबंधित करने के लिए आवश्यक उपाय किए गए हैं।

घायलों में भस्म आरती के मुख्य पुजारी संजय गुरु भी शामिल हैं, जिन्हें चोटें आई हैं, जबकि नौ लोगों की हालत गंभीर बताई जा रही है। त्वरित चिकित्सा सहायता प्रदान की गई है, कुछ मामलों को आगे के उपचार के लिए इंदौर में विशेष सुविधाओं के लिए भेजा गया है।

प्रत्यक्षदर्शियों ने घटनाओं के दुर्भाग्यपूर्ण क्रम को बताया, जिससे संकेत मिलता है कि धार्मिक अनुष्ठान के दौरान दीपक के साथ ‘गुलाल’ के आकस्मिक संपर्क से आग भड़क गई होगी। इस घटना से प्रभावित लोगों के शीघ्र स्वस्थ होने के लिए चिंता और प्रार्थनाओं का दौर शुरू हो गया है।

नेताओं की प्रतिक्रियाएँ:

केंद्रीय मंत्री अमित शाह और मध्य प्रदेश के सीएम मोहन यादव ने प्रभावित व्यक्तियों के साथ एकजुटता व्यक्त की और जनता को उनकी भलाई के लिए सरकार की प्रतिबद्धता का आश्वासन दिया। त्रासदी से प्रभावित सभी लोगों को आवश्यक सहायता और चिकित्सा सहायता प्रदान करने के प्रयास चल रहे हैं।

निष्कर्ष:

महाकाल मंदिर की घटना धार्मिक समारोहों के दौरान सुरक्षा उपायों के महत्व की एक गंभीर याद दिलाती है। जैसे-जैसे जांच जारी है, घायलों की रिकवरी सुनिश्चित करने और भविष्य में ऐसी दुर्घटनाओं को रोकने पर ध्यान केंद्रित है। इस चुनौतीपूर्ण समय में हमारी संवेदनाएं और प्रार्थनाएं पीड़ितों और उनके परिवारों के साथ हैं।

1 thought on “Fire Incident:-महाकाल मंदिर के गर्भगृह में आग लगने से 13 पुजारी घायल”

Leave a Reply