Jharkhand News:-बिहार में शराब अब झारखंड में पी गए गांजा और भांग! जानिए क्या है पूरा मामला

Jharkhand News:-बिहार में शराब अब झारखंड में पी गए गांजा और भांग! जानिए क्या है पूरा मामला

झारखंड के दिल धनबाद में एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है, जो बिहार में चूहों द्वारा शराब पीने की कुख्यात घटना की याद दिलाता है। हालाँकि, इस बार, सुर्खियों में कृंतकों द्वारा मारिजुआना (गांजा) और भांग की खपत है। सवाल यह उठता है कि क्या यह पुलिस की लापरवाही का नतीजा है या चूहों को दोषी बताकर बलि का बकरा बनाने की सोची-समझी साजिश है।

कानूनी कार्यवाही का अनावरण

इस विचित्र घटना के पीछे की सच्चाई तो समय ही बताएगा। फिलहाल, पुलिस ने खुलासा किया है कि कृंतकों ने एक स्थानीय पुलिस स्टेशन में रखे 10 किलोग्राम भांग और नौ किलोग्राम मारिजुआना के भंडार को नष्ट कर दिया है।मामले से जुड़े एक कानूनी प्रतिनिधि ने खुलासा किया कि पुलिस ने जिला अदालत को घटना की जानकारी दी थी।

Jharkhand News:-बिहार में शराब अब झारखंड में पी गए गांजा और भांग! जानिए क्या है पूरा मामला

छह साल पहले कोर्ट की ओर से जब्त किए गए गांजा और भांग को पेश करने के निर्देश के बाद पुलिस ने शनिवार को मुख्य जिलाधिकारी राम शर्मा को रिपोर्ट सौंपी। आधिकारिक रिपोर्ट में कहा गया है कि कृंतक पुलिस स्टेशन की भंडारण सुविधा में संग्रहीत नशीले पदार्थों को पूरी तरह से नष्ट करने में कामयाब रहे। मामले को लेकर केस दर्ज कर लिया गया है।

यह भी पढ़े:-Jharkhand Weather:-झारखंड में बादल छाए ठंडी हवाएँ और बारिश की आशंका

बचाव पक्ष के वकील अभय भट्ट ने बताया कि उनके मुवक्किल शंभू प्रसाद अग्रवाल शनिवार को राजगांगपुर पुलिस स्टेशन के प्रभारी अधिकारी के साथ अदालत में पेश हुए। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि कृंतकों ने जब्त किए गए सभी पदार्थों को खा लिया है।

भट्ट ने संदेह व्यक्त किया कि उनके मुवक्किल को झूठे आरोपों में फंसाया गया होगा, क्योंकि पुलिस जब्त किए गए सबूत पेश करने में विफल रही। स्थिति का हैरान करने वाला पहलू यह है कि कैसे कृंतकों ने मारिजुआना और भांग को निशाना बनाया, ये पदार्थ अपनी तीखी गंध और कड़वे स्वाद के लिए जाने जाते हैं।

एक तुलनात्मक विश्लेषण: बिहार बनाम झारखंड

कई साल पहले, बिहार में भी इसी तरह की घटना देखी गई थी, जहां चूहों ने कथित तौर पर पुलिस हिरासत में रखी शराब पी ली थी, जिससे देश भर में हैरानी फैल गई थी। इसके बाद, बिहार चूहों के नशे की घटनाओं का पर्याय बन गया। ज़ब्त की गई शराब पीने वाले कृंतकों की धारणा ने अदालत कक्ष में भी भौंहें चढ़ा दीं।

हालाँकि, यह मामला धीरे-धीरे सार्वजनिक चर्चा से दूर हो गया। बिहार के सख्त शराबबंदी कानूनों के कारण अक्सर अवैध शराब जब्त की जाती है, जो कभी-कभी रहस्यमय तरीके से पुलिस हिरासत से गायब हो जाती है।

बिहार की मिसाल के बाद झारखंड में हालिया प्रकरण गंभीर प्रभाव पैदा करता है। नशीले पदार्थों का पूरा जखीरा कानून प्रवर्तन अधिकारियों के अधिकार क्षेत्र में, पुलिस स्टेशन के परिसर में संग्रहीत किया गया था। सुरक्षा में उल्लंघन जब्त किए गए पदार्थों की सुरक्षा के लिए अपनाए गए उपायों की प्रभावकारिता के बारे में चिंता पैदा करता है।

इसके अलावा, यह घटना पुलिस भंडारण सुविधाओं की भेद्यता की ओर ध्यान आकर्षित करती है, जिनसे सख्त प्रोटोकॉल और नियमों का पालन करने की उम्मीद की जाती है।

निष्कर्ष

झारखंड में कथित तौर पर मारिजुआना और भांग का सेवन करने वाले कृंतकों की चौंकाने वाली गाथा कानून प्रवर्तन और मादक द्रव्य नियंत्रण पर चल रही बहस में एक और परत जोड़ती है। हालांकि इन घटनाओं के पीछे की सच्चाई रहस्यमय बनी हुई है, लेकिन यह पुलिस स्टेशनों के भीतर कड़ी सतर्कता और सुरक्षा उपायों की आवश्यकता पर जोर देती है। जैसे-जैसे कानूनी कार्यवाही सामने आएगी, घटना के आसपास की परिस्थितियों की गहराई से जांच करना और जवाबदेही सुनिश्चित करना अनिवार्य हो जाएगा।

1 thought on “Jharkhand News:-बिहार में शराब अब झारखंड में पी गए गांजा और भांग! जानिए क्या है पूरा मामला”

Leave a Reply