Jharkhand News:-8 लाख का इनामी नक्सली गिरफ्तार, 78 वारदातों में था वांटेड

Jharkhand News:-8 लाख का इनामी नक्सली गिरफ्तार, 78 वारदातों में था वांटेड

झारखंड के लातेहार जिले में पुलिस ने भाकपा माओवादी संगठन के विभाजनकारी और आतंकी अघनू गंझू को गिरफ्तार कर लिया है। इस पर  8 लाख का इनाम भी था, जो कि एनआईए की वांटेड लिस्ट में था। इसके द्वारा किये गए वारदातों की संख्या 78 के पार है, उनके खिलाफ थे।

गिरफ्तारी का सबसे विस्तृत विवरण

पुलिस अधिकारियों के अनुसार, अघनू गंझू की गिरफ्तारी बेतर जंगल में छापेमारी के दौरान हुई। उन्हें चंदवा थाना क्षेत्र में सहयोगी नक्सलियों के साथ मिलकर धरा पर बोला गया था। इसमें सुरक्षा बलों की सफल छापामारी शामिल थी जिससे अघनू गंझू को गिरफ्तार किया गया।छापेमारी करने वाली टीम की अगुवाई एसडीपीओ संतोष कुमार मिश्रा कर रहे थे। अघनू गंझू का नक्सली संगठन में सब जोनल कमांडर का ओहदा था।

अघनू गंझू नक्सली संगठन के सब जोनल कमांडर रहे हैं और उन्होंने वर्ष 2019 में चंदवा थाना क्षेत्र में पुलिस पर कई हमले का मुख्य आरोपी बना था। उस पर झारखंड पुलिस ने 5 और एनआईए ने 3 लाख रुपए का इनाम घोषित कर रखा था,इसके अलावा, उनके खिलाफ झारखंड के लातेहार, गुमला, लोहारडागा और रांची जिलों में 78 से ज्यादा मामले दर्ज थे।

झारखण्ड के इन जंगली इलाको में ये माओवादी अपना ठिकाना बनाते है और यही से रहकर अपने साथियो द्वारा ऑपरेट करते है ,पुलिस की सर्च टीम भी जब भी जाती है ये जंगल का फायदा उठा के बच निकलते थे ,लकिन इस बार ऐसा नहीं होने दिया पुलिस बल ने और इस इनामी नकसली को लातेहार पुलिस ने धर दबोचा,पुलिस के इस कार्य के लिए जितनी भी इनकी सराहनीय की जाए काम है।

ALSO READ:लोकसभा पैनल ने BJP MP Nishikant Dubey से उनकी ‘डिग्री’ के बारे में पूछा,

गंझू की गिरफ्तारी ने माओवादियों को झटका पहुंचाया

लातेहार के एसपी अंजनी अंजन ने शनिवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसकी जानकारी दी। अनुसार, पुलिस ने बताया कि अघनू गंझू की तलाश एनआईए को भी थी। गुप्त सूचना पर कार्रवाई करते हुए उसे चंदवा थाना क्षेत्र में बेतार जंगल से गिरफ्तार किया गया।अघनू गंझू की गिरफ्तारी ने माओवादियों को तगड़ा झटका पहुंचाया है। इसके बाद रवीन्द्र गंझू के गिरोह में सिर्फ पांच से छह नक्सली ही बचे हैं। अघनू गंझू को अदालत ने न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।

समाप्ति

इस गिरफ्तारी से साफ है कि झारखंड पुलिस का सफल छापामारी अभियान नक्सलियों के खिलाफ प्रभावी है। पुलिस को सूचना मिली थी कि अघनू गंझू की अगुवाई में नक्सलियों का एक दस्ता जंगल में घूम रहा है। इस सूचना के आधार पर पुलिस और सुरक्षा बलों की संयुक्त टीम गठित कर छापामारी अभियान चलाया गया।अघनू गंझू की गिरफ्तारी ने नक्सली संगठन को महसूस कराया है कि सुरक्षा बलों की ताकत को कोई भी परेशानी नहीं पहुंचा सकता।

ALSO READ:-रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को पड़ा दिल का दौरा,फर्श पर गिरे मिले..!

Leave a Reply