Ranchi News:-अवैध खनन मामला पंकज मिश्रा की बढ़ी मुश्किलें,विजय हांसदा को नामजद अभियुक्त बनाया

Ranchi News:-अवैध खनन मामला पंकज मिश्रा की बढ़ी मुश्किलें,विजय हांसदा को नामजद अभियुक्त बनाया

Ranchi News:-अवैध खनन मामला पंकज मिश्रा की बढ़ी मुश्किलें,विजय हांसदा को नामजद अभियुक्त बनाया

राँची: सीबीआइ ने झारखण्ड के साहिबगंज जिले में स्थित नींबू पहाड़ पर अवैध खनन मामले में पंकज मिश्रा, दाहू यादव सहित अन्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है।अवैध खनन मामले में सीबीआई ने झारखण्ड के साहिबगंज जिले में नींबू पहाड़ पर कई लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है। इसमें पंकज मिश्रा, दाहू यादव, और विजय हांसदा को शामिल किया गया है। इस लेख में हम इस मामले की गहराईयों में जाएंगे और इस विवाद से जुड़े हर पहलुवार को समझेंगे।

विजय हांसदा को नामजद अभियुक्त बनाया गया है

हाइकोर्ट के आदेश पर सीबीआइ ने प्राथमिकी दर्ज की है, जिसमें साहिबगंज में अवैध खनन, ईडी के अधिकारियों को झूठे मुकदमे में फंसाने और गवाहों को भड़काने के लिए साजिश रचने का आरोप है।

प्राथमिकी में आरोप

विजय हांसदा ने साहिबगंज के बोरियो थाना में पंकज मिश्रा और अन्य के खिलाफ नींबू पहाड़ पर अवैध खनन करने और मना करने पर जातिसूचक शब्दों का इस्तेमाल करने का आरोप लगाते हुए प्राथमिकी दर्ज कराई थी। सरकारी बॉडीगार्ड का धौंस दिखा ग्रामीणों के साथ मारपीट करने का भी आरोप था।

यह भी पढ़े:-विराट कोहली ने जीता ‘फील्डर ऑफ द मैच’ का पुरस्कार और पीएम मोदी के साथ मोहम्मद शमी का प्रेरक क्षण

गिरफ्तारी और जेल भेजा जाना

हांसदा ने प्राथमिकी में पंकज मिश्रा, विष्णु यादव, पवित्र यादव, संजय यादव सहित कुल आठ लोगों को नामजद अभियुक्त बनाया था। उसके खिलाफ दर्ज एक मामले में उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। ईडी ने हांसदा द्वारा दर्ज कराई गई प्राथमिकी के तहत उससे जेल में पूछताछ की और उसके द्वारा दिए गए बयान के आधार पर अवैध खनन मामले में अपना गवाह बनाया।

याचिका और जांच

बोरियो थाने में दर्ज प्राथमिकी में किसी तरह की कार्रवाई नहीं होने की वजह से विजय हांसदा ने हाइकोर्ट में याचिका दायर कर इस प्राथमिकी की स्वतंत्र एजेंसी से जांच कराने की मांग की। लेकिन जेल से निकलने के बाद उसने अपनी याचिका वापस लेने के लिए आइए दायर किया। इसमें यह तर्क पेश किया गया कि उसके द्वारा जमानत याचिका दायर करने के लिए वकालतनामा पर हस्ताक्षर कराने के बाद जांच की मांग को लेकर याचिका दायर कर दी गई है। इसलिए वह जांच की मांग से जुड़ी मूल याचिका वापस लेना चाहता है। हाइकोर्ट ने सुनवाई के बाद इस पूरे प्रकरण की सीबीआइ जांच का आदेश दिया।

ईडी के आदेश पर: विजय हांसदा के खिलाफ प्राथमिकी

ईडी के गवाह मुकेश यादव व अन्य के खिलाफ धुर्वा थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। राँची पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज करने के बाद धारा 164 के तहत हांसदा का बयान दर्ज कराया। इसमें हांसदा ने ईडी के अधिकारियों पर भी आरोप लगाए हैं। धुर्वा थाने में दर्ज मामले के खिलाफ मुकेश यादव ने हाइकोर्ट में रिट याचिका दायर की।

हाइकोर्ट का आदेश

हाइकोर्ट ने सुनवाई के बाद धुर्वा थाने में दर्ज प्राथमिकी के आलोक में पीड़क कार्रवाई करने पर रोक लगा दी। सीबीआइ ने कोर्ट में शपथ पत्र दायर कर हाइकोर्ट परिसर में इडी के अधिकारियों का फोन छीनने की पुष्टि की। सीबीआइ ने शपथ पत्र में यह भी कहा कि हाइकोर्ट के वकील सुधांशु शेखर चौधरी के कहने पर धुर्वा थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई है।

इस बीच ईडी ने भी अपने गवाह विजय हांसदा के मुकरने और गवाही के लिए पीएमएलए कोर्ट में हाजिर नहीं होने की जांच की। इसमें यह पाया कि ईडी के खिलाफ भड़काने के लिए रची साजिश में राज्य के एक आइपीएस अधिकारी भी शामिल हैं। विजय हांसदा के लिए टिकटों की व्यवस्था साहिबगंज के एसपी नौशाद आलम ने करवायी है।

अनूठे सवाल

  1. यह क्यों हुआ?
  2. क्या इसमें सियासी रंग है?
  3. क्या लोगों के बीच में इसका कोई प्रभाव है?
  4. क्या इससे न्यायिक प्रक्रिया को प्रभावित किया जा सकता है?
  5. क्या इसमें और भी अधिक रहस्य हैं?

4 thoughts on “Ranchi News:-अवैध खनन मामला पंकज मिश्रा की बढ़ी मुश्किलें,विजय हांसदा को नामजद अभियुक्त बनाया”

Leave a Reply