– महाभारत ग्रंथ की रचना महर्षि वेदव्यास ने की थी। लेकिन इसका लेखन भगवान श्रीगणेश ने किया था।

– महाभारत के श्लोकों की संख्या (लम्बाई) 1,10,000 - 1,40,000 है।

– महाभारत का मूलतत्त्व और आधार कौरवों औ‍र पाण्डवों के मध्य का आपसी संघर्ष था।

महाभारत ग्रंथ का वाचन सबसे पहले महर्षि वेदव्यास के शिष्य वैशम्पायन ने राजा जनमेजय की सभा में किया था।

वेदव्यास जी को महाभारत पूरा रचने में ३ वर्ष लग गये थे

महाभारत में विदुर यमराज के अवतार थे। ये धर्म शास्त्र और अर्थशास्त्र के महान ज्ञाता

दुर्योधन ने भगवद् गीता सुनने से यह कह कर मना कर दिया था कि वह सही और गलत के बारे में जानता है।

– धर्म ग्रंथों के अनुसार 33 मुख्य भगवान हैं और उनमें से एक हैं अष्ट वसु जिनका जन्म शांतनु और गंगा के पुत्र के रूप में हुआ था। उनकी आठवीं संतान भीष्म थी।

– क्या आप जानते हैं कि महाभारत के युद्ध में विदेशी भी शामिल थे। वास्तविक युद्ध सिर्फ पांडवों और कौरवों के बीच नहीं था बल्कि रोम और यमन की सेना भी इसका हिस्सा थी ।